अहिंसक रूप से प्रदर्शन करना असामाजिक! लाठियां भांजी कई सर फूटे, टूटी टांगे, तानाशाही की पराकाष्ठा:सुखवीर सिंह मालिक

Spread the love

अहिंसक रूप से प्रदर्शन करना असामाजिक! लाठियां भांजी कई सर फूटे, टूटी टांगे, तानाशाही की पराकाष्ठा:सुखवीर सिंह मालिक


-पूरे भारत में रोष प्रदर्शन किए गए हर जगह पुलिस बल प्रयोग, सरकार की तानाशाही।

गत दिवस रात को आम आदमी पार्टी संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी को गिरफ्तार कर लिया गया।
देशभर में दिल्ली पंजाब हरियाणा उत्तर प्रदेश मध्य प्रदेश गुजरात गोवा मैं मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी के खिलाफ रोष प्रदर्शन किया गया।


इसी क्रम में हरियाणा में मुख्यमंत्री निवास कुरुक्षेत्र में आम आदमी पार्टी के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया।
प्रदेश अध्यक्ष सुशील कुमार गुप्ता एवं प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष अनुराग डंडा के नेतृत्व में यह रोष प्रदर्शन किया गया।
जानकारी के अनुसार अहिंसक रूप से प्रदर्शन एवं नारे बाजी करते रहे आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं पर अचानक बिना चेतावनी के पुलिस बल का प्रयोग किया गया वाटर कैनन भी चलाया गया अंधाधुंध लाठी बरसाई गई जिससे बहुत बड़ी संख्या में कार्यकर्ता घायल हो गए मुख्य रूप से प्रदेश अध्यक्ष सुशील गुप्ता की शरीर पर एवं टांग पर भारी चोट आई अनुराग ढांडा के कान पर लाठी लगी। और लहू लुहान हो गए।


सैकड़ो की संख्या में कार्यकर्ता घायल हुए उनको कुरुक्षेत्र के अस्पताल पर ले जाया गया और उपचार कराया गया।
इस प्रदर्शन में पानीपत जिला की तरफ से प्रदेश सह सचिव सुखबीर सिंह मलिक अपनी टीम के साथ शामिल हुए।
उनको भी कई जगह पर लाठियां लगी प्रतिक्रिया देते हुए सुखबीर सिंह मलिक ने कहा यह तानाशाही की परिकाष्ठा है।
उन्होंने कहा क्या आहिंसक रूप से प्रदर्शन करना क्या हमारे देश में असवैधानिक है?
हम एक लोकतांत्रिक देश में रहते हैं अपनी बात रखने और आहिंसक रूप से रोष प्रदर्शन करना हम लोगों का संवैधानिक अधिकार है।


इसको रोकना एक तानाशाही मानी जाती है
आचार संहिता लगने के बावजूद केजरीवाल जी को गिरफ्तार किया गया एक अपने उद्देश्य को सफल करने के लिए सिटिंग मुख्यमंत्री को गिरफ्तार करना तानाशाही की परिकाष्ठा है।
हम लोगों को ऐसा महसूस हो रहा है कि हम आपातकाल लगे देश में रहते हैं एक प्रकार की अघोषित आपातकाल जैसा माहौल देश में है।
दूसरा यह मेरा मानना है केंद्र में 10 साल होने को आए हैं सरकार ने कोई काम नहीं किया जिसके नाम पर वह वोट मांग सके।


इसलिए विपक्ष की परियों के खाते सीज करना उनके बड़े पदाधिकारी को फर्जी केस में जेल के अंदर करना केंद्र सरकार का चुनाव जीतने का तरीका बन गया है।
पानीपत जिले के काफी साथी घायल हुए हैं जिनमें मुख्य रूप से सांसद प्रतिनिधि साक्षी गुप्ता एवं महिला प्रदेश सहसचिव रेनू राना है।
सुखबीर मलिक के अलावा राजकुमार मुंडे प्यारेलाल गुप्ता राजवीर किसान होशियार सिंह संदीप मनचंदा मुकेश शर्मा वह बहुत से साथियों को चोटे आई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *