पानीपत में सरकारी डॉक्टरों की हड़ताल का बड़ा असर, ओपीडी सहित अन्य स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित

Spread the love
पानीपत जिले में सरकारी डॉक्टरों की हड़ताल का खासा असर…
ओपीडी सहित अन्य स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित…
डॉक्टरों का पूरा दिन ओपीडी बंद रखने का एलान…
जिले के अन्य केंद्रों पर भी डॉक्टर हड़ताल पर…
केवल इमरजेंसी सेवाएं बहाल…
उपचार करवाने पहुंचे मरीज लौटे वापिस।
निजी अस्पतालों के जिम्मे होंगी स्वास्थ्य सेवाएं।
सरकारी डॉक्टरों ने चार सूत्रीय मांगों के समर्थन में सरकार के खिलाफ संघर्ष का बिगुल बजा दिया है। आज सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों में मरीजों को इलाज नहीं हुआ। अस्पतालों में महज इमरजेंसी सेवाएं ही जारी हैं।
हरियाणा सिबिल मेडिकल सर्विसेज एसोसिएशन के आह्वान पर डॉक्टरों ने ये फैसला लिया। डॉक्टरों ने सरकार को चेतावनी दी है कि अगर उनकी 28 दिसंबर तक सभी चार सूत्रीय मांगें नहीं मानी गई तो अस्पतालों की सभी आपातकाल सेवाएं बंद कर दी जाएंगी।
अस्पताल समेत सभी 24 सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों में प्रतिदिन 1900-2000 लोगों की ओपीडी होती है।
डॉक्टरों की मांग है कि विशेषज्ञ डॉक्टरों का अलग केडर बनाया बनाया जाए। प्रदेश में विशेषज्ञों की कमी को पूरा किया जाए। कैडर के अनुसार विशेषज्ञ ओपीडी के अलावा दूसरा काम नहीं करेंगे। अब विशेषज्ञों को पोस्टमार्टम और जरूर इमरजेंसी ड्यूटी भी करनी पड़ती है। एशोसिएशन के जिला प्रधान डॉ. रिंकू सांगवान ने बताया कि हेल्थ मिनिस्टर ने उनकी मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया था लेकिन दो साल बीत जाने के बाद भी उनकी मांगों को पुरा नहीं किया गया, जिस कारणवश वे हड़ताल करने पर मजबूर हुए हैं।
सामान्य अस्पताल में उपचार करवाने दूरदराज से पहुंचे मरीजों का कहना है कि हम लोगों को नहीं पता था कि आज हड़ताल रहेगी। उन्हें यहां आकर पता चला कि आज ओपीडी बंद है।

जिससे हमारे साथ आए हुए मरीज और हम काफी परेशान हैं। क्योंकि एक तो ठंड और दूसरी तरफ मजदूरी छोड़कर हम यहां पर पहुंचे। यहां पहुंचने पर पता चल रहा है कि आज डॉक्टरों की हड़ताल की वजह से पर्ची नहीं बन पाएगी।

डॉक्टरों की हड़ताल का असर मरीजों पर अच्छा खासा देखने को मिला। मरीज़ों को या तो बिना इलाज करवाये वापिस लौटना पड़ा या निजी अस्पतालों का सहारा लेना पड़ रहा है। हालांकि इमरजेंसी सेवाएं बहाल रहने पर कुछ मरीजों की परेशानी थोड़ी कम होती दिखाई दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *